Home अंतरंग यौन शिक्षा यौन सम्भोग से संक्रमित इन्फैक्शन

यौन सम्भोग से संक्रमित इन्फैक्शन

0
1317

male-femaleयौनसम्बन्धों द्वारा संचारित संक्रामक रोग क्या होता है?
यौन सम्बन्धों से फैलने वाले किसी भी रोग – समूह के लिए एस टी डी अर्थात यौन सम्बन्धों द्वारा संचरित रोग शब्दों का उपयोग किया जाता है।

यौन सम्बन्धों द्वारा संचरित कैसे फैलते हैं?
योनि सम्भोग, मौखिक सम्भोग और गुदापरक सम्भोग जैसे अन्तरंग यौन सम्पर्क से एस टी डी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचते हैं।

एस टी डी के लक्षण क्या होते हैं?
एस टी डी के लक्षणों में निम्नलिखित शामिल हैं – औरतों में योनि के आसपास खजली और /अथवा योनि से स्राव (2) पुरूषों मे लिंग से स्राव (3) सम्भोग के समय अथवा मूत्र त्याग के समय पीड़ा (4) जननेन्द्रिय के आसपास पीड़ाविहीन लाल जख्म (5) मुलायम त्वचा के रंग वाले मस्से जननेन्द्रिय के आसपास हो जाते हैं। (6) गुदा परक सम्भोग वालों को गुदा के अन्दर और आसपास पीड़ा (7) असामान्य छूत के रोग, न समझ आने वाली थकावट, रात को पसीना और वजन का घटना।

क्या यह सम्भव है कि किसी व्यक्ति को एस टी डी हो और उसे पता न हो?
पुरूषों मे तो एस टी डी के लक्षण सामान्यतः दिख जाते हैं तो वे जागरूक हो जाते हैं कि उनके यौन परक अंग संक्रमित हो गए हैं। जबकि औरतों के संक्रमण के लक्षण दिखाई नहीं देते जबकि रोग लग चुका होता है।

क्या एस टी डी से अन्य स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्य़ाएं हो सकती हैं?
हां, प्रत्येक एस टी डी से अलग प्रकार की स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएं होती हैं – कुल मिलाकर उनसे ग्रीवा परक कैंसर और अन्य कैंसर हो सकते हैं जिगर के रोग, अन- उर्वरकता, गर्भ सम्बन्धी स्म्याएं और अन्य कष्ट हो सकते हैं। कुछ प्रकार के एस टी डी एच आई वी/एड्स की सम्भावनाओं को बढ़ा देते हैं।

एस टी डी की आशंका होने पर क्या करना चाहिए?
यदि आपको आशंका हो कि आप को एस टी डी है तो मदद लेने से घबराओ या शरमाओं मत। डाक्टर के पास जाओ और एस टी डी की जांच के लिए हो या अगर आप पुरूष हैं तो त्वचा विशेषज्ञ के पास जाओ स्त्री हैं तो स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाओ। लक्षणों की उपेक्षा मत करो और न ही यह इन्तजार करो कि आप चले जाएंगे।एस टी डी रोग बहुत आम है और बहुत छूत फैलाने वाले होते हैं, अगर जल्दी पककड़ में आ जाए तो आसानी से ठीक भी हो सकते हैं।

एसटीडी की रोकथाम के क्या तरीके हैं?
एस टी डी से अपने आप को बचाया जा सकता है- (1) स्वयं एक विवाह सम्बन्ध निभाना और यह सुनिश्चित करना कि साथी भी उसे निभाये (2) पुरूषों द्वारा लेटैक्स कंडोम के प्रयोग से छूत का भय कम हो जाता है अगर सही प्रयोग किया जाए। ध्यान रखें, हमेशा सम्भोग के समय उसका उपयोग करें। महिलाओं के कंडोम उतने प्रभावशाली नहीं हैं जितने पुरूषों के यदि पुरूष न उपयोग करे तो स्त्री को अवश्य करना चाहिए।

_____________________________________________________________________

बी- एच आई वी/एड्स

एच आई वी और एड्स क्या है?
एड्स का अर्थ है अर्जित रोधन अभाव संलक्षण (Acquired Immune Deficiency Syndraoure) एड्स एच आई वी (मानव की रोधनक्षमता को कमजोर करने वाला वायरस) से होता है जो कि शरीर की रोधनक्षमता पर प्रहार करताहै जिसका काम शरीर को छूत या संक्रामक रोगों से बचाना होता है। इस सुरक्षा कवच के बिना एड्स वाले लोग भयानक छूत के रोगों और कैंसर आदि से पीड़ि हो जाते हैं।

यह कैसे फैलता है?
एक संक्रमित व्यक्ति से एच आई वी क छूत दूसरे व्यक्ति तक वीर्य, योनि स्राव अथवा रक्त के देने-लेने से पहुंचती है। यह (1) यौन परक सम्भोग (2) एक इंजैक्शन की सुई का दूसरे व्यक्ति के लिए प्ररयोग करने से (3) एक संक्रमित मां से उसके बच्चे को जन्म या उसके आसपास के समय में पहुंचाता है।

क्या मौखिक सम्भोग से एच आई वी की छूत लग सकती है?
हालांकि मौखिक सम्भोग से भी संक्रमण की सम्भावना रहती है परन्तु औरत या पुरूष के साथ असुरक्षित यौन सम्बन्ध रखने से जरो खतरा होता है वह कहीं अधिक रहता है।

क्या गुदापरक असुक्षित सम्भोग से योनिपरक एवं मौखिक सम्भोग की अपेक्षा एच आई वी का खतरा अधिक रहता है?
अन्य किसी प्रकार के यौन सम्भोगों की अपेक्षा असुरक्षित गुदापरक सम्भोग में निश्चय ही खतरा अधिक रहता है। मलाशय के अस्तर में योनि की अपेक्षा कम सैल होते हैं, इसलिए उसमेंचोट लग सकती है और सम्भोग के समय रक्त निकल सकता है। वहां से वह संक्रमित वीर्य या रक्त शरीर के मुख्य रक्त प्रवाह में प्रवेश पा सकता है।

एच आई वी किस प्रकार से नहीं मिल फैलता?
प्रतिदिन के सामाजिक सम्पर्कों से एच आई वी दूसरे तक नहीं पहुंचता जैसे कि (1) एक ही टॉयलेट का प्रयोग (2) बर्तनों की साझ्दारी (3) सामाजिक अभिव्यक्ति हाथ मिलाना, गले मिलना आदि (4) मच्छर जैसे कीड़ों के काटने या पालतू पशुओं से (5) खांसी/छीकों से।

टैटू लगवाते हुए, शरीर मे कोई छेद कराते हुए या नाई के पास जाने में क्या अच आई वी की छूत लग सकने का कोई खतरा होता है?
यदि रक्त से सने औजारों को एक ग्राहक से दूसरे ग्राहक को लगाने से पहले रोगाणुविहीन न किया जाए तो एच आई वी क छूत लगने का खतरा रहता है। एक बार प्रयोग करके फेंक दिए जाने वाले ब्लेडों का इस्तेमाल करके इससे बचा जा सकता है।

क्या चुम्बन द्वारा एच आई वी संक्रमण होता है?
एच आई वी सेसंक्रमित लोगों के मुख की लार में हालांकि वाइरस हो सकता है पर लार से एच आई वी का संक्रमण नहीं होता। यदि सम्भोग के साथियों के मुंह में कुछ कटा हो या दाने हो या मसूड़ों से खून आ रहा हो तो हो सकता है कि संक्रमित खून दूसरे में चला जाये इसलिए गहन चुम्बन से परहेज करना चाहिए।

यदि मुझे एच आई वी है तो कैसे पता चलेगा?
एक बहुत ही साधारण सी रक्त की जांच होती है उसे कराने से पता चलता है। इसे एच आई वी ऐन्टीबॉडी टैस्ट कहते हैं। ऐन्टीबॉडी पैदा करके आपका शरीर वाइरस की उपस्थिति के प्रति प्रतिक्रिया करता है। इन ऐन्टीबॉडी को ढूंढ निकालने वाले टैस्ट से पता चलता है कि आप संक्रमित हैं।

एच आई वी टैस्टिंग में ‘विंडो पीरियड’ क्या होता है?
रक्त में दिखाई देने में इन ऐन्टीबॉडी को 14 सप्ताह या उसे भी अधिक समय लगता है। इस दौरान अगर टैस्ट करवाया जाये तो उसमें वे नहीं दिखेंगे जब कि वास्तव में आप वाइरस से प्रभावत हो सकते हैं।

17. एच आई वी और एड्स में क्या अन्तर है?
एड्स एच आई वी संक्रमण की अत्यन्त विकसित स्थिति है।

18. संक्रमण के एकदम बाद क्या लक्षण प्रकट होते हैं?
एच आई वी एड्स से संक्रमित होने पर कई लोगों में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते। वाइरस के सम्पर्क मे आने के कई दिन या हफ्तों के बाद कुछ लोगों में फ्लू जैसा बीमारी के लक्षण दीखते हैं। वे बुखार, सिरदर्द, थकावच और गले की बड़ी हुई ग्रन्थियों की शिकायत करते हैं। एड्स के ये लक्षण सामान्यतः कुछ सप्ताह बाद अपने आप गायब हो जाते हैं।

रोग को पनपने में कितना समय लगता है?
इसके पनपने का समय हर व्यक्ति में अलग-अलग लगता है। यह स्थिति कुछ महीनों से लेकर दस साल तक चल सकती है। इस अवधि में वाइरस सक्रिय होकर गुणीभूत होता जाता है और रोधनक्षमता के सैल्स को नष्ट कर देता है, शरीस में संक्रमणों से जूझने वाले सीडी 4+या टी 4 सैल को नष्ट कर देता है।

एच आई वी/एड्स के लक्षण क्या हैं?
एक बार जब शरीर की रोधन क्षमता कमजोर हो जाती है, एच आई वी@एड्स से संक्रमित व्यक्ति में निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं – (1) ऊर्जा की कमी (2) वजन घटना (3) बार-बार बुखार और पसीना (4) देर तक या बार बार होने वाली फंगल की छूत (5) देर तक रहने वाला डॉयरिया (6) कुछ समय के लिए विस्मृति (7) मुख, जननेन्द्रिय और गुदा में फोड़े (8) खांसी और श्वास फूलना।

मुझे लगता है कि हो सकता मुझे एच आई वी या एड्स हो। मुझे क्या करना चाहिए?
अगर तुम्हें ऐसा लगता है या कोई लक्षण दिखता है तो डाक्टर के पास जाओ। हो सकता है आप के रक्त की जांच की जाए। सकारात्मक (पॉजीटिव) रिपोर्ट का अर्थ है कि आपको वायरस लग गया है और आप से दूसरों के पास जा सकता है।

इसका उपचार किस प्रकार किया जा सकता है?
एच आई वी के संक्रमण और एड्स का कोई उपचार नहीं है, इसका वायरस शरीस में जीवन भर रहता है। उनमें से एक है एजेड टी जो किएच आई वी बढ़ने को रोक देता है पर इलाज नहीं है। जो संक्रामक रोग या कैंसर हो जाता है उनके इलाज के लिए दवाएं हैं।

NO COMMENTS

error: Content is protected !!