झूठे वादे कर यौन संबंध बनाना बलात्कार

0
330

Arrest-300x225नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने कहा है कि शादी का झूठा वादा करके किसी महिला से यौन संबंध स्थापित करना बलात्कार है।

न्यायमूर्ति आरवी ईश्वर ने पत्नी की शिकायत पर उसके पति अभिषेक जैन की अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज करते हुए यह टिप्पणी की। अभिषेक की पत्नी ने आरोप लगाया था कि उसने शादी करने के झूठे वादे की आड़ में उनका विवाह होने से पहले ही उससे यौन संबंध स्थापित किया था।

न्यायालय ने कहा कि एक महिला से उसकी इच्छा के विरुद्ध या उसकी सहमति के बगैर ही यौन संबंध स्थापित करना भारतीय दंड संहिता के तहत बलात्कार होता है। यदि झूठे आश्वासन या शादी का वादा करके उसकी सहमति ली गई तो इसे मुकम्मल और स्वतंत्र नहीं माना जा सकता और यह बलात्कार का मामला होगा।
इस महिला ने अपनी शिकायत में कहा है कि अभिषेक के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराए जाने के बाद ही उसने उसके साथ शादी की।

अदालत ने कहा कि पहली नजर में ऐसा लगता है कि इस महिला को पुलिस में 15 फरवरी 2013 को दर्ज कराई गई शिकायत वापस लेने के लिए तैयार करने के इरादे से ही यह शादी हुई थी।

विवाह के तुरंत बाद आवेदनकर्ता ने शिकायतकर्ता को शारीरिक यातनाएं देना शुरू कर दिया। शायद यह सोचा होगा कि वह उसे छोड़कर चली जाएगी लेकिन उसने शिकायत दायर कर दी जिसकी वजह से आरोपी को जमानत की अर्जी देनी पड़ी।

इस महिला ने फरवरी 2013 में रानीबाग थाने में दायर शिकायत में आरोप लगाया था कि विवाह से पहले कई मौकों पर आवेदनकर्ता (जैन) ने शादी का झूठा वादा करके उससे बलात्कार किया था, लेकिन 4 मार्च 2013 को आवेदनकर्ता ने गाजियाबाद स्थित आर्य समाज विवाह मंदिर में शिकायतकर्ता से वास्तव में शादी कर ली और गाजियाबाद में ही हिन्दू विवाह के पंजीयक द्वारा शादी का पंजीकरण भी किया गया।

प्राथमिकी में पति के खिलाफ पत्नी के आरोपों का जिक्र करते हुए अदालत ने कहा कि विवाह के बाद आवेदनकर्ता के हाथों शिकायतकर्ता को शारीरिक हिंसा का विवरण प्राथमिकी में है। प्राथमिकी में यह भी कहा गया है कि अक्सर आरोपी उससे यह कहता रहता है कि उसने यह शादी तो उसे अपनी शिकायत वापस लेने के लिए राजी करने हेतु ही की है।

अदालत ने कहा कि प्राथमिकी में शिकायतकर्ता के शारीरिक उत्पीड़न और धमकियों के बारे में अनेक घटनाओं का जिक्र किया गया है।

प्राथमिकी में कहा गया है कि उसके पति के परिवार के सदस्य भी उससे छल करने और उसके खिलाफ बलात्कार की शिकायत वापस लेने के लिए उसकी शादी करने की साजिश में शामिल थे।